.....

14 मई 2011

Hindi Shayari - हिंदी शायरी - (भाग - 103)

(१) ख़ुशी के आँसू रुकने न देना !
गम के आँसू बहने न देना !!
ये जिंदगी न जाने कब रुक जायेगी !
अपनी प्यारी सी दोस्ती कभी टूटने न देना !!

(२) कभी - कभी तो यूँही रो परती हैं आँखे !
उदास होने का कोई सबब नहीं होता...!!
मैं अपने दिल को ये बात कैसे समझाऊ !
किसी को चाहने से वो अपना नहीं होता !!

(३) दिल की यादों से सवारू तुझे !
तू दिखे तो आँखों में उतारू तुझे !!
तेरे नाम को मैंने अपने लबो पे सजाया हैं !
सो भी जाऊ तो ख्वाबो में पुकारू तुझे !!

(४) हर ख़ुशी गम का एलान हैं !
हर मुलाकात जुदाई का पैगाम हैं !!
न रखना किसी से कोई उम्मीदें !
हर उम्मीद दिल टूटने का फरमान हैं !!

(५) मेरी कलम से लफ्ज खो गए !
आज वो बेवफ़ा हो गए.....!!
जब नींद खुली तो पलकों में पानी था !
मेरे ख्वाब मुझ पे ही रो गए...!!

एक टिप्पणी भेजें

  © Shero Shairi. All rights reserved. Blog Design By: Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP